पर्यावरण अध्ययन के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर सीटीईटी और टीईटी परीक्षा के लिए

CTET EVS notes in Hindi : Ctet EVS & NCERT EVS Notes के अन्य पोस्ट को भी देखे और अपने शिक्षक पात्रता परीक्षा में अच्छे मार्क लाये |सभी शिक्षक भर्ती परीक्षा में पर्यावरण अध्ययन और बाल विकास से क्वेश्चन पूछे जाते हैं | CTET 2024 परीक्षा के लिए कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न शिक्षक पात्रता परीक्षा जैसे की – CTET, UPTET, HPTET, PSTET,BPSC TET ,MPTET ,etc में पूछे जाते हैं | CTET परीक्षा के माध्यम से आप शिक्षक बनने की पात्रता प्राप्त करते है |आज हम इस पोस्ट के माध्यम से पर्यावरण अध्ययन के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नों को देखेंगे |

Advertisement

ईवीएस के नोट्स जो विभिन्न टीईटी परीक्षा के लिए तैयार हैं जो आपकी बेहतरीन तैयारी के लिए महत्वपूर्ण है |आप भी शिक्षक भर्ती परीक्षा की तैयारी करते हैं तो इस CTET Environmental Studies & Pedagogy Notes and Study Material पोस्ट को पूरा जरुर पढ़ें | यह प्रश्नों की श्रृखला में आप Environmental Studies EVS Questions for CTET & TET Exam जो आपके एग्जाम के लिए महत्वपूर्ण है |

Ctet Primary Environment EVS Notes PDF Hindi

EVS Notes For Teaching Exams

  1. उत्तर प्रदेश राज्य में कचनार के फूलों से केरल राज्य में केले के फूलों से और महाराष्ट्र राज्य में सहजन के फूलों से सब्जी बनाई जाती है |
  2. गुलदावरी और जीनिया के फूलों से रंग बनते हैं जिससे लोग कपड़े रंगने का काम करते हैं |
  3. बिहार राज्य में मधुबनी नाम का एक जिला है  वहां पर लोग त्योहारों के दिन घर की दीवारों पर चित्र बनाए जाते हैं  ऐसे सभी चित्र पिसे हुए चावल में रंग घोलकर बनाए जाते हैं   |
  4. उत्तर प्रदेश राज्य का कन्नौज जिला इत्र के लिए मशहूर है |
  5. मिट्टी में जब गोबर मिलाकर जमीन पर लिपाई की जाती है तो मिट्टी में कीड़ा नहीं लगता तथा कीट पतंग दूर रहते हैं   |
  6. नीम और कीकर ऐसे वृक्ष है जिसकी लकड़ी के ऊपर दीमक नहीं लगते तथा इनका प्रयोग फर्नीचर आदि बनाने में किया जाता है |
  7. गाजीखान यह एक स्थान पाकिस्तान में स्थित है |
  8. सोहना गांव हरियाणा राज्य में स्थित है |
  9. वेलबनीका गांव कर्नाटक राज्य में स्थित है |
  10. विजू भाई बधेका एक प्रसिद्ध लेखक है जो कि गुजरात से संबंधित है  वह बच्चों की स्तर की मजेदार कहानियां वह पत्र लिखते थे   |
  11. लिंग.हू.फेन हांगकांग में खाया जाने वाले यह एक प्राकर का एक पकवान है जो कि सांप के मांस से बनाया जाता है    |
  12. टेपिकोवा यह एक पेड़ की तरह होता है और  केरल में जमीन के नीच उगाया जाता हैं |
  13. लूई ब्रैल एक वैज्ञानिक थे जो कि फ्रांस के निवासी थे उन्होंने ब्रेल लिपि की खोज की थी  ब्रेल लिपि 6 डॉट   बिंदुओं पर आधारित होता है और जो लोग देख नहीं पाते उसके छू कर पढ़ पाते है   |
  14. असम में बहुत ज्यादा बारिश के कारण घर जमीन से 10 से 12 फीट ऊंची बने होते हैं और इन्हें बांस के खंभों पर बनाया जाता है    |
  15. हिमांचल प्रदेश के मनाली में पत्थर तथा लकड़ी के घर बने होते हैं |
  16. राजस्थान में मिट्टी के जो घर होते हैं उनकी दीवार मोटी और छत कटीली झाड़ियों से बनी होती है |
  17. जम्मू कश्मीर में चाय को कहवा बोला जाता हैं इसमें बादाम आदि डाला जाता है इसलिए यह बहुत ही प्रसिद्ध है |
  18. वल्लम एक प्राकर की नाव है जो कि लकड़ी से बनी हुई होती है यह केरल में चलती है   |
  19. एक हाथी दिन भर में 100 किलोग्राम से ज्यादा पत्ती और झाड़ियां खा सकता है |
  20. हाथियों के झुंड में केवल हथनियां ही होती है  एक झुण्ड में 10 से 12 हाथनिया और उनके छोटे बच्चे होते हैं |
  21. हाथी पूरे दिन भर में केवल 2 से 4 घंटा ही सो पाते है एक वयस्क हाथी एक दिन में 100 किलो (1 क्विंटल) तक पत्ते और टहनियाँ खा सकता है। तीन महीने के हाथी का वजन करीब 200 किलो (2 क्विंटल) होता है। हाथी ज्यादा आराम नहीं करते और दिन में सिर्फ 2-3 घंटे ही सोते हैं। हाथी सामान्यतः उष्णकटिबंधीय आवासों में पाए जाते हैं। |
  22. 10 से 15 साल तक ही हाथी सारे एक झुंड में रहते हैं फिर वह झुंड को छोड़ देते हैं और अकेले रहने लगते हैं |
  1. बिल्ली के दाँत नुकीले होते हैं जो मांस को फाड़ने मे काम आते हैं   |बिल्ली छोटे मांसाहारी स्तनपायी की एक घरेलू प्रजाति है।वैज्ञानिक नाम : फेलिस कैटसबिल्लियाँ अपने क्षेत्र को मूत्र से चिह्नित करती हैं।मांस काटने के लिए बिल्लियों के नुकीले दांत भी होते हैं।शीतनिद्रा (हाइबरनेशन) का अर्थ है ऐसे जानवर जो अपनी सर्दी सुप्त अवस्था में बिताते हैं।कुछ जंगली बिल्लियाँ सर्दियों के दौरान शीतनिद्रा में रहती हैं लेकिन घरेलू बिल्लियाँ शीतनिद्रा में नहीं रहती हैं।एक बिल्ली दिन भर झपकी लेकर सोती है, एक बिल्ली लगातार घंटों तक नहीं सोती है।एक बिल्ली दिन में औसतन 12 घंटे सोती है।
  2. सांप के दांत होते तो नुकीले हैं पर वह अपने शिकार को कभी चबाता नहीं हैं बल्कि निगल जाता हैं |
  3. गिलहरी के दाँत हमेशा बढ़ते रहते हैं इसिलिए वह अपने दांतो से काटना और कुतरने के काम करती रहती है जिससे उनके दाँत घिसते रहते हैं |
  4. गिद्ध हम जितनी दूर देख सकते हैं चार बार देख सकते हैं। ये पक्षी आठ मीटर की दूरी से ऐसी चीजें देख सकते हैं जो हम दो मीटर की दूरी से देख सकते हैं।
  5. रेशमकीट: कुछ नर कीट अपनी मादाओं को उनकी गंध से पहचान लेते हैं। रेशम के कीड़ों को अपनी गंध से कई किलोमीटर दूर से ही अपनी मादा कीट मिल जाती है।
  6. बाघ:एक बाघ रात में हममें से अधिकतर लोगों की तुलना में छह गुना बेहतर देख सकता है।बाघ की मूंछें बहुत संवेदनशील होती हैं और हवा में हलचल या कंपन को महसूस कर सकती हैं।बाघ की सुनने की क्षमता इतनी तेज होती है कि वह पत्तों की सरसराहट और घास पर किसी जानवर के हिलने-डुलने की आवाज में फर्क कर सकता है।बाघ के कान अलग-अलग दिशाओं में घूम सकते हैं और इससे चारों ओर से आने वाली आवाजों को पकड़ने में मदद मिलती है।बाघ अलग-अलग उद्देश्यों के लिए जैसे कि गुस्सा होने पर या बाघिन को पुकारने के लिए अलग-अलग आवाजें निकालते हैं। यह गर्जना भी कर सकता है या खर्राटे भी ले सकता है।बाघ अपने क्षेत्र को अपने मूत्र से चिह्नित करते हैं।एक बाघ को पेशाब की गंध से तुरंत पता चल जाता है कि उसके क्षेत्र में कोई दूसरा बाघ है या नहीं।
  7. नल्लमडा आंध्रप्रदेश राज्य में हैं |
  8. बाजार गांव महाराष्ट्र राज्य में हैं |
  9. कफ परेड मुंबई शहर मे एक जगह का नाम हैं |
  10. ऑस्ट्रेलिया में एक पेड़ पाया जाता हैं जिसका नाम रेगिस्तानी ओक है और  यह बहुत लम्बा होता हैं और इसके तने के अंदर पानी रहता हैं   |
  11. बिहू यह त्योहार असम राज्य में चावल की फसल कटने पर मनाया जाता हैं   इस त्योहार पर असम में बिहू नृत्य भी होता हैं |
  12. बोरा और चेवा चावल के दो प्रकार है जो असम राज्य में खाया जाता है |
  1. सभी चीटियों को काम बटा हुआ होता है और रानी चीटियां अंडे देती है और  | सभी सिपाही चीटियां बिल का ध्यान रखती है | सभी मजदूर चींटी बिल तक भोजन ढूंढ कर लाती है |
  2. मधुमक्खियां दीमक और ततैया भी चीटियों की तरह ही समूह में कार्य करते हैं |
  3. अक्टूबर से दिसंबर तक का जो समय होता है उसमें मधुमक्खियों के अंडे देने का होता है अतः यह समय मधुमक्खी के पालन के लिए सबसे उचित समय माना जाता है| |
  4. गोवा से लेकर केरल के रेल रास्ते में 92 सुरंग और 2000 पुल पड़ते हैं |
  5. मलयालम में वालीयम्मा को मां की बड़ी बहन को और  अम्मूमा को  नानी को कहते हैं   |
  6. गंुजरात के गांधीधाम अहमदाबाद में और वलसाड गुजरात में तथा कोझीकड केरल में स्थित है |
  7. कर्णम मल्लेश्वरी जी एक वेटलिफ्टर है और यह आंध्र प्रदेश की रहने वाली है   यह 130 किलोग्राम वजन उठाती है  और भारत के बाहर 29 मेडल जीत कर अपना ओर भारत का परचम लहरा चुकी हैं |मल्लेश्वरी ने 12 साल की उम्र में वजन उठाना शुरू कर दिया था। अब वह 130 किलोग्राम वजन उठा सकती हैं | कर्णम ने अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में 29 पदक जीते हैं। उसकी चार बहनें भी भारोत्तोलन का अभ्यास करती हैं अपने दस साल के करियर के दौरान, उन्होंने प्रतिष्ठित ओलंपिक कांस्य के अलावा 11 स्वर्ण और तीन रजत पदक जीते हैं | वह नौ साल तक (दो बार 52 किग्रा वर्ग में और सात बार 54 किग्रा वर्ग में) राष्ट्रीय चैंपियन रही हैं | उल्लेखनीय है कि 19 सितंबर 2000 को मल्लेश्वरी ने 69 किग्रा भार वर्ग में 240 किग्रा भार उठाकर सिडनी ओलंपिक कांस्य पदक जीता था | वह ओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली महिला एथलीट बनीं | वह वर्ष 1995-1996 के लिए भारत के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार की प्राप्तकर्ता हैं | उन्हें 1999 में नागरिक सम्मान पद्मश्री से भी नवाजा जा चुका है | मल्लेश्वरी को 1994 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया, जो खेल में भारत का दूसरा सबसे बड़ा पुरस्कार है |
  8. लिंग.हू.फेन हांगकांग में खाया जाने वाले यह एक प्राकर का एक पकवान है जो कि सांप के मांस से बनाया जाता है    |
  9. टेपिकोवा यह एक पेड़ की तरह होता है और  केरल में जमीन के नीच उगाया जाता हैं |
  10. लूई ब्रैल एक वैज्ञानिक थे जो कि फ्रांस के निवासी थे उन्होंने ब्रेल लिपि की खोज की थी  ब्रेल लिपि 6 डॉट   बिंदुओं पर आधारित होता है और जो लोग देख नहीं पाते उसके छू कर पढ़ पाते है   |
  11. असम में बहुत ज्यादा बारिश के कारण घर जमीन से 10 से 12 फीट ऊंची बने होते हैं और इन्हें बांस के खंभों पर बनाया जाता है    |
  12. हिमांचल प्रदेश के मनाली में पत्थर तथा लकड़ी के घर बने होते हैं |
  13. राजस्थान में मिट्टी के जो घर होते हैं उनकी दीवार मोटी और छत कटीली झाड़ियों से बनी होती है |
  14. जम्मू कश्मीर में चाय को कहवा बोला जाता हैं इसमें बादाम आदि डाला जाता है इसलिए यह बहुत ही प्रसिद्ध है |
  15. वल्लम एक प्राकर की नाव है जो कि लकड़ी से बनी हुई होती है यह केरल में चलती है   |
  16. वीवर पक्षी पक्षिओ मे सभी नर वीवर अपने अपने घोसले बनाते हैं   मादा वीवर जो होती है वो उन सभी घोसलो को देखती |
कृपया शेयर जरुर करें -

Leave a Comment