भारत के सामान्य ज्ञान-भूगोल | Indian Geography Notes In Hindi

Indian Geography General Knowledge In Hindi : भारत सामान्य ज्ञान किसी भी प्रतियोगिता परीक्षाओ के लिए सबसे महत्वपूर्ण सब्जेक्ट है | भारत सामान्य ज्ञान आप पढ़कर परीक्षा में अच्छे अंक अर्जित कर सकते हैं| इस पोस्ट के माध्यम से आप Indian Geography के अति महत्वपूर्ण प्रश्नों को पढ़ेंगे और जानेंगे कि हमारे Indian Geography क्या है और यह किस प्रकार से हमारी भारत को प्रभावित करती है और विविधताओं से परिपूर्ण करती है| BPSC ,CTET, UPTET, HPTET, PSTET,BPSC TET ,MPTET ,इत्यादि सम्बंधित परीक्षाओ की तयारी कर रहे है तो आप इसे जरुर पढ़े |

सभी परीक्षाओ का महत्वपूर्ण विषय है इससे सभी परीक्षाओ में प्रश्न पूछे जाते है |भारत के सामान्य ज्ञान-भूगोल की जानकारी प्राप्त करेंगे जो आपके परीक्षाओ में महत्वपूर्ण है |भारत सामान्य ज्ञान का लगातार सामान्य ज्ञान का महत्व बढ़ता ही जा रहा है। आज की पोस्ट के माध्यम से हम भूगोल के सामान्य ज्ञान पढेगे और आप इसे पढ़कर अधिक से अधिक तैयारी कर अपने परीक्षाओं में सफल हो सकते है | अगर आपको यह पोस्ट पसंद आती हो तो आप इसे अपने दोस्तों में शेयर जरूर करें |

Geography  mcq

Indian Geography General Knowledge In Hindi |BPSC Exams |BPSC TRE |बीपीससी GK/GS

  1. भारत भूमध्य रेखा के उत्तर में 8°4′ से 37°6′ अक्षांश तकऔर देशांतरीय विस्तार 68°7′ से 97°25′ पूर्वी देशांतर तक फैला हुआ है ।
    संपूर्ण भारत का अक्षांशीय विस्तार 6°4′ से 37°6′ उत्तरी अक्षांश के मध्य स्थित है ।
  2. कर्क रेखा भारत को दो बराबर भागों में विभाजित करती है ।
    कर्क रेखा 8 राज्यों से होकर जाती हैं – राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा एवं मिजोरम ।
  3. भारत का मानक समय इलाहाबाद के निकट मिर्जापुर से गुजरने वाली 82¹/₂ पूर्वी देशांतर रेखा को माना गया है ,जो ग्रीनविच समय से 5¹/₂ घंटा आगे है ।
    82¹/₂ पूर्वी देशांतर रेखा पांच राज्यों ( उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा, आंध्र प्रदेश ) से होकर गुजरता है ।
  4. पृथ्वी की चुंबकीय विषुवत रेखा दक्षिण भारत में त्रिवेन्द्रम से गुजरती है ।
  5. भारत का क्षेत्रफल 32,87,263 वर्ग किमी है ।
    क्षेत्रफल की दृष्टि से विश्व में भारत का सातवां स्थान है । ( रूस, कनाडा, चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील एवं ऑस्ट्रेलिया )
    जनसंख्या की दृष्टि से विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश है । (प्रथम- चीन )
  6. भारत में राज्यों की संख्या – 28
    केंद्र शासित प्रदेश की संख्या – 8 है |
  7. प्रायद्वीपीय भारत की तट रेखा की लंबाई – 6100 km है |
  8. मुख्य भूमि, लक्षद्वीप समूह और अंडमान निकोबार द्वीप समूह के समुद्र तट की कुल लंबाई – 7516.6 km है |
  9. भारत की पूर्व से पश्चिम की लंबाई – 2933 km है |
  10. भारत की उत्तर से दक्षिण की लंबाई – 3214 km है |
  11. भारत की स्थलीय सीमा की लंबाई – 15200 km है |
  12. भारत में द्वीपों की कुल संख्या – 247 है |
  13. भारत की बंगाल की खाड़ी में द्वीपो की संख्या – 204 है |
  1. भारत की अरब सागर में द्वीपो की संख्या – 43 है |
  1. भारत की राजधानी– नई दिल्ली है |
  • भारत की जनसंख्या – 1,21,08,54,977है |
  • विश्व की जनसंख्या में भारत का प्रतिशत – 17.5% है |
  • जनसंख्या घनत्व – 382 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी ।
  • भारत की समुद्री सीमा से लगे देश – पाकिस्तान, मालदीव, श्रीलंका, बांग्लादेश, म्यांमार, थाईलैंड, इंडोनेशिया ( 7)
  • भारत की जल एवं स्थल सीमा से लगे देश – बांग्लादेश, म्यांमार और पाकिस्तान ( 3 देश)
  • भारत के राज्य पड़ोसी देश की सीमा से लगे है – 17 राज्य
  • भारतीय उपमहाद्वीप में सम्मिलित देश – भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान
  • सर्वाधिक राज्य की सीमा से लगा राज्य – उत्तर प्रदेश ( उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड एवं बिहार )
  • भारतीय तटरेखा वाले राज्य – गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल ( 9 राज्य)
  • सर्वाधिक लंबी तटरेखा वाला राज्य – गुजरात ( 1663 km)
  • सर्वाधिक लंबी अंतर्राष्ट्रीय सीमा – बांग्लादेश
  • सबसे कम अंतरराष्ट्रीय सीमा – अफगानिस्तान
  • बांग्लादेश के तीनों तरफ से घिरा राज्य – त्रिपुरा (शून्य रेखा )
  • क्षेत्रफल में सबसे बड़ा राज्य – राजस्थान
  • क्षेत्रफल में सबसे छोटा राज्य – गोवा

 

यह भी पढ़े :-

⏩भारत के राष्टीय उद्यान और वन्यजीव अभ्यारण्य की सूचि देखे

⏩सामान्य ज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्नोतरी जरुर पढ़े

⏩सामान्य अध्ययन के अति महत्वपूर्ण प्रश्न -उत्तर

⏩सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण के नोट्स पढ़े

भारत के पड़ोसी देश

  1. भारत-बांग्लादेश ( 4096.7km)
    भारत- चीन (3488 km)
    भारत-पाकिस्तान ( 3323 km)
    भारत- नेपाल ( 1751 km)
    भारत- म्यांमार ( 1643 km)
    भारत – भूटान ( 699 km)
    भारत – अफगानिस्तान (106 km)
  2. भारत के अंतिम सीमा बिन्दु- दक्षिणतम बिंदु – इंदिरा पॉइंट ( ग्रेट निकोबार द्वीप )
    उत्तरतम बिन्दु – इंदिरा कोल ( जम्मू कश्मीर )
    पश्चिमी बिंदु – सरक्रीक ( गुजरात ) 
    पूर्वी बिंदु – वालांगू ( अरुणाचल प्रदेश )
  3. मुख्य भूमि की दक्षिणतम सीमा – कन्याकुमारी ( कोमोरिन अन्तरीप), तमिलनाडु
  4. पड़ोसी देशों की सीमा पर अवस्थित भारतीय राज्य
    चीन – जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश (5)
    नेपाल – उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम ( 5)
    बांग्लादेश – पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, त्रिपुरा, मिजोरम (5)
    पाकिस्तान – गुजरात, राजस्थान, पंजाब, जम्मू कश्मीर ( 4 )
    म्यांमार – अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम (4)
    भूटान – सिक्किम, पश्चिम बंगाल, असम, अरुणाचल प्रदेश ( 4)
    अफगानिस्तान – जम्मू कश्मीर ( 1)
  5. शीर्ष क्षेत्रफल वाले राज्य-
    राजस्थान ( 3,42,239)
    मध्य प्रदेश ( 3,08,252)
    महाराष्ट्र ( 3,07,713)
    उत्तर प्रदेश ( 2,40,928)
  6. शीर्ष क्षेत्रफल वाले जिले-
जिलाराज्यक्षेत्रफल (वर्ग किमी )
कच्छगुजरात  45652
लेहजम्मू कश्मीर  45110
जैसलमेरराजस्थान 39313
  •  पड़ोसी देशों से लगा सबसे लंबा राज्य-
देशराज्य
बांग्लादेश पश्चिम बंगाल
चीन जम्मू कश्मीर
पाकिस्तान राजस्थान
नेपाल बिहार
म्यांमार मिजोरम
भूटान असोम
अफगानिस्तान जम्मू कश्मीर (पाक अधिकृत )
  •  3 देशों से सीमा बनाने वाले राज्य-
राज्यदेश
जम्मू कश्मीरपाकिस्तान, अफ़गानिस्तान, चीन
सिक्किमनेपाल, भूटान, चीन
पश्चिम बंगालबांग्लादेश, नेपाल, भूटान
अरुणाचल प्रदेशभूटान, चीन, म्यांमार

भारत के प्रमुख अंतरराष्ट्रीय सीमा रेखाएँ

देश  सीमा रेखा
भारत- चीन मैकमोहन रेखा
भारत- अफगानिस्तान डूरण्ड रेखा
भारत-पाकिस्तान रेडक्लिफ रेखा

  • प्रमुख चैनल/ जलडमरूमध्य-
  • विभाजित स्थल खंड चैनल/ खाड़ी
    इंदिरा पॉइंट – इंडोनेशिया  ग्रेट चैनल
    भारत- श्रीलंका मन्नार की खाड़ी एवं पाक जल संधि
    दक्षिण अंडमान व लघु अनुमान  डुंकन पास
    कोको द्वीप व उत्तरी अंडमान कोको स्ट्रेट
    लघु अंडमान- कार निकोबार  10° चैनल
    मिनिकॉय- लक्षद्वीप  9° चैनल
    मालदीव- मिनिकॉय  8° चैनल

    भौतिक विविधताएँ एवं विभाजन

    भारत को भौगोलिक स्थिति और विविधताओ के के कारण विभिन्न क्षेत्रो में विभाजित किया गया है :-

    • हिमालय पर्वत शृंखला (Himalaya Range)
    • उत्तरी मैदान (Northan Plain)
    • प्रायद्वीपीय पठार (Peninsular Pleatue)
    • भारतीय मरुस्थल (Indian Desert)
    • तटीय मैदान (Coastal Plain)

    हिमालय विश्व की सबसे ऊँची पर्वत श्रेणी भारत की उत्तरी सीमा पर वलित पर्वत शृंखला है। ये पर्वत शृंखलाएँ पश्चिम-पूर्व दिशा में सिंधु से लेकर ब्रह्मपुत्रा तक विस्तृत हैं।

    देशांतरीय विस्तार के कारण हिमालय को चार भागों में बांटा गया है :-

    • ट्रांस हिमालय (Trans Himalaya)-इसमें काराकोरम, लद्दाख, जास्कर और कैलाश नाम की पर्वत श्रेणियाँ शामिल हैं| भारत का सर्वोच्च और दुनिया का दूसरा सबसे ऊंचा पर्वत शिखर K2 (गॉडवर्न ऑस्टिन) उचाई – 8611 मीटर  जो भारत के काराकोरम रेंज में स्थित है |
    • वृहत हिमालय (Great Himalaya)-हिमालय की सबसे ऊतरी श्रेणी जिसे हम वृहत हिमालय, ग्रेट हिमालय,हिमाद्रि भी कहते है सबसे ऊँची श्रेणी है, जिसकी औसत ऊँचाई लगभग 6000 मी. है|वृहत हिमालय में सर्वाधिक ऊँची चोटियाँ माउंट एवरेस्ट (8848 मीटर), कंचनजंघा आदि इसी पर्वत श्रेणी में पायी जाती हैं| और यहाँ बड़े-बड़े ग्लेशियर गंगोत्री , यमुनोत्री इत्यादि है |
    • मध्य/लघु हिमालय (Lower Himalaya)हिमालय की मध्यवर्ती क्षेणी का निर्माण मुख्यतः अत्याधिक संपीडित तथा परिवर्तित शैलों से हुआ और इनकी ऊँचाई 3700 मीटर से 4500 मीटर के बीच तथा औसत चौड़ाई 50 किलोमीटर है। मध्य/लघु हिमालयमें पीर पंजाल शृंखला सबसे लंबी तथा सबसे महत्त्वपूर्ण शृंखला , धौलाधर एवं महाभारत शृंखलाएँ भी महत्त्वपूर्ण हैं और कश्मीर की घाटी तथा हिमाचल के कांगड़ा एवं कुल्लू की घाटियाँ स्थित हैं। इस क्षेत्र को पहाड़ी नगरों के लिए जाना जाता है, लघु हिमालय पर्वतीय पर्यटन केन्द्रों के लिए प्रसिद्ध है ।
    • शिवालिक हिमालय (Shivalik Himalaya)-यह हिमालय का नवीनतम भाग है ।लघु हिमालय की दक्षिण में स्थित इसकी चौड़ाई 10 से 50 Km तथा ऊंचाई 900 से 1100 मीटर के बीच है। शृंखलाओं से नदियों द्वारा लायी गयी असंपिडित अवसादों से बनी है। ये घाटियाँ बजरी तथा जलोढ़ की मोटी परत से ढँकी हुई हैं। यहाँ कुछ प्रसिद्ध दून हैं- देहरादून कोटलीदून एवं पाटलीदून है।शिवालिक के निचले भाग को तराई कहते हैं ।

    उत्तरी मैदान (Northan Plain)

    • भारत के उत्तर में स्थित विशाल मैदान हिमालय के बाद मध्य अक्षांश पर स्थित एक उपजाऊ भूमि हैं|
    • हिमालय से निकलने वाली एवं तेज गति से बहने वाली नदियों द्वारा लाए गए गाद से निर्मित होती हैं।
    • उत्तर भारत का विशाल मैदानी क्षेत्र शिवालिक के दक्षिण में स्थित है।
    • भारत का उत्तरी मैदान तीन नदी तंत्र, अर्थात सिंधु, गंगा और ब्रह्मपुत्र और उनकी सहायक नदियों द्वारा निर्मित है।
    • उत्तर का मैदान दुनिया का सबसे बड़ा जलोढ़ क्षेत्र है।
    • यह सिंधु के मुहाने से गंगा के मुहाने तक लगभग 3,200 किमी तक फैला हुआ है।
    • प्रायद्वीपीय पठारी क्षेत्र इसकी दक्षिणी सीमा बनाती है। पूर्व में, मैदानों की सीमा पूर्वांचल की पहाड़ियों से लगती है।
    • उत्तरी मैदान का भौतिक विभाजन :
      • भाबर के मैदान
      • तराई क्षेत्र के मैदान
      • भांगर के मैदान
      • खादर के मैदान
      • डेल्टा मैदान

    यह भी पढिये :-

    प्रायद्वीपीय पठार (Peninsular Pleatue)

    • प्रायद्वीपीय पठार भारत के सबसे पुराने एवं सबसे स्थिर भू–भागों में से एक है|
    • इसमें कुल 16 लाख वर्ग किलोमीटर (भारत का कुल क्षेत्रफल 32 लाख वर्ग किलोमीटर) का क्षेत्रफल शामिल है।
    • पठार की औसत ऊंचाई समुद्र तल से 600 से 900 मीटर है।

    भारतीय मरुस्थल (Indian Desert)

    भारत में थार मरुस्थल का लगभग 85% भाग है जबकि शेष पाकिस्तान में है। मरुस्थलीय क्षेत्र में प्रति वर्ष 150 मिमी से कम वर्षा होती है। इस कारण से, इसकी जलवायु न्यून वनस्पति आवरण के साथ शुष्क जलवायु है। थार मरुस्थल को विश्व का सर्वाधिक समृद्ध मरुस्थल कहा जाता है क्योंकि यह भारत एवं विश्व में ऊन का  सर्वाधिक वृहद उत्पादक है।

    तटीय मैदान (Coastal Plain)

    भारतीय तटरेखा जो 7516.6 किमी लंबी है जो अंडमान, निकोबार और लक्षद्वीप द्वीपों के साथ 6100 किमी की मुख्य भूमि तटरेखा को कवर करती है। भारत की तटरेखा 13 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को छूती है।

    भारत के तटीय मैदान दो प्रकार के हैं:

    1. भारत के पूर्वी तटीय मैदान
    2. भारत के पश्चिमी तटीय मैदान

    पश्चिमी तटीय मैदान अरब सागर के किनारे हैं जबकि पूर्वी तटीय मैदान बंगाल की खाड़ी के किनारे स्थित हैं।

    हमें आशा है आपको यह Geography of India पसंद आया होगा आप इसे अपने दोस्तों में शेयर जरुर करे और हमारे अन्य पोस्ट को भी जरुर देखे जिससे आप पढाई सम्बंधित जानकारी प्राप्त कर सकते है |

    Share Now :-