Important Samanya Hindi Question Answer

Important Samanya Hindi Question Answer : हिंदी व्याकरण से संबंधित सभी सामान्य ज्ञान सभी परीक्षाओ के लिए महत्वपूर्ण है | सभी प्रतियोगिता परीक्षाओ में हिंदी व्याकरण से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है इसलिए आप इसकी तैयारी जरुर करे | हिंदी के सामान्य प्रश्नों का अभ्यास कर आप परीक्षाओ में सफलता प्राप्त कर सकते है इस पोस्ट में हिंदी व्याकरण के विभिन्न परीक्षाओ में पूछे गए प्रश्नों का अभ्यास कराया गे है आप इसे जरुर देखे | हिंदी व्याकरण के महत्वपूर्ण विषय है |CTET, UPTET, HPTET, PSTET,BPSC TET ,MPTET ,etc जैसे महत्वपूर्ण परीक्षाओ में इससे सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते हैं |

सामान्य हिंदी के इन बहुविकल्पीय प्रश्नों (MCQ) GK प्रश्नों का अभ्यास करें | अब BPSC tre 2.0 में 30 अंको की भाषा से प्रश्न दिए जायेंगे जिसकी तैयारी आप जरुर रखे | Hindi Grammar G.K से अच्छे अंक प्राप्त कर सकते है | आप अपने BPSC Teacher exam में अच्छे मार्क प्राप्त कर सकते है | आप हमारे अन्य लेख से GK & GS और Important Question Paper & Notes , Bihar special GK देखे सकते है | आप को यह Important Samanya Hindi Question Answer कैसा लगा यह आप कमेंट कर जरुर बाए और इसे अपने दोस्तों में जो भी All State Level Exams की तयारी कर रहे है उनसे शेयर जरुर करे |

हिंदी व्याकरण सामान्य ज्ञान

Hindi Grammar G.K MCQ

Q.निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए: (प्र. G1-G5)

मृत्युंजय और संघमित्र की मित्रता पाटलिपुत्र के जन-जन की जानी बात थी । मृत्युंजय जन-जन द्वारा ‘धन्वंतरि’ की उपाधि से विभूषित वैद्य थे और संघमित्र समस्त उपाधियों से विमुक्त ‘भिक्षु’ । मृत्युंजय चरक और सुश्रुत को समर्पित थे, तो संघमित्र बुद्ध के संघ और धर्म को । प्रथम का जीवन की संपन्नता और दीर्घायुष्य में विश्वास था तो द्वितीय का जीवन के निराकरण और निर्वाण में । दोनों ही दो विपरीत तटों के समान थे, फिर भी उनके मध्य बहने वाली स्नेह-सरिता उन्हें अभिन्न बनाए रखती थी। यह आश्चर्य है, जीवन के उपासक वैद्यराज को उस निर्वाण के लोभी के बिना चैन ही नहीं था, पर यह परम आश्चर्य था कि समस्त रोगों को मलों की तरह त्यागने में विश्वास रखने वाला भिक्षु भी वैद्यराज के मोह में फँस अपने निर्वाण को कठिन से कठिनतर बना रहा था। वैद्यराज अपनी वार्ता में संघमित्र से कहते – निर्वाण (मोक्ष) का अर्थ है – (आत्मा का मृत्यु पर विजय )। संघमित्र हँसकर कहते – देह द्वारा मृत्यु पर विजय मोक्ष नहीं है। देह तो अपने आप में व्याधि है ।

तुम देह की व्याधियों को दूर करके कष्टों से छुटकारा नहीं दिलाते, बल्कि कष्टों के लिए अधिक सुयोग जुटाते हो । देह व्याधि से मुक्ति तो भगवान की शरण में है)। वैद्यराज ने कहा- मैं तो देह को भगवान के समीप जीते ही बने रहने का माध्यम मानता हूँ । पर दृष्टियों का यह विरोध उनकी मित्रता के मार्ग में कभी बाधक नहीं हुआ। दोनों अपने कोमल हास और मोहक स्वर से अपने-अपने विचारों को प्रस्तुत करते रहते ।

G1. देह-व्याधि के निराकरण के बारे में संघमित्र का क्या विचार था

(A) संघमित्र देह व्याधि से मुक्ति भगवान शरण से मानते थे ।
(B) संघमित्र शरीर को व्याधि-मुक्त मानते थे।
(C) संघमित्र जीवन की संपन्नता और दीर्घायुष्य में विश्वास रखते थे ।
(D) संघमित्र के अनुसार देह-व्याधियों से मुक्ति संभव नहीं थी ।

उत्तर:- (A)

G2. “आत्मा का मृत्यु पर विजय ही मोक्ष है” ऐसा किसका मानना है ?

(A) मृत्युंजय का
(B) संघमित्र का
(C) चरक और सुश्रुत का
(D) बौद्ध धर्म का

उत्तर:- (A)

G3. व्याधि और सुयोग शब्दों में क्रमशः प्रयुक्त उपसर्ग है ?

(A) व्या और सु
(B) आधि और ओग
(C) वि + आ और सु
(D) वि और सु

उत्तर:- (D)

G4. संघमित्र और मृत्युंजय के विषय में कौन-सा विकल्प सही है ?

(A) मृत्युंजय सादा जीवन जीते सादा जीवन जीते हुए निर्वाण प्राप्ति समर्थक थे, संघमित्र जीवन की संपन्नता और दीर्घायुष्य में विश्वास रखते थे ।
(B) संघमित्र और मृत्युंजय दोनों मित्र थे और उनके जीवन-सिद्धांत एक जैसे ही थे ।
(C) संघमित्र जीवन को निरोग बनाकर आनंदपूर्वक जीने व दीर्घायु रहकर उपभोग का आनंद उठाने के समर्थक थे, मृत्युंजय चरक और सुश्रुत को समर्पित थे ।
(D) मित्र होते हुए भी उन दोनों के जीवन सिद्धांत विपरीत थे।

उत्तर:- (D)

G5. जीवन की संपन्नता और दीर्घायुष्य में किसका विश्वास था ?

(A) पाटलिपुत्र के राजा का
(B) पाटलिपुत्र की प्रजा का
(C) संघमित्र का
(D) मृत्युंजय का

उत्तर:- (D)

Q “कई दर्शक गण” किस विशेषण का उदाहरण है?

(A) निश्चित संख्यावाचक विशेषण
(B) अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण
(C) अनिश्चित परिमाण वाचक विशेषण
(D) निश्चित परिमाणवाचक विशेषण

उत्तर :- (B) अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण

Q. नीचे दिए गए शब्द किस गुणवाचक विशेषण के प्रकार हैं? अच्छा, दानी, न्यायी, कृपालु-

(A) आकार बोधक
(B) दोष बोधक
(C) गंध बोधक
(D) गुण बोधक

उत्तर :- (D) गुण बोधक

Q. कौन-सा विशेषण निश्चित संख्यावाचक विशेषण नहीं है?

(A) सैकड़ों लोग मारे गए
(B) एक किलो आम से ज्यादा मत लाना
(C) कुर्ते के लिए दो मीटर कपड़ा चाहिए
(D) चाय में पचास ग्राम चीनी डालना

उत्तर :- (A) सैकड़ों लोग मारे गए

Q. नवग्रह में कौन सा समास है

(A)द्विगु
(B)तत्पुरुष
(C)द्वंद्व
(D)कर्मधारय

उत्तर :- द्विगु

Q. विद्यार्थी में कौन सा समास है

(A)तत्पुरुष
(B)कर्मधारय
(C)बहूव्रीहि
(D)द्विगु

उत्तर :- तत्पुरुष

Q. ‘मंत्री’ शब्द का लिंग क्या है?

(A) पुल्लिंग
(B) स्त्रीलिंग
(C) नपुंसकलिंग
(D) उभयलिंग

उत्तर :- A

Q. अपवाद को छोड़कर वर्णमाला के अक्षरों के नाम किस लिंग में होते हैं?

(A) पुल्लिंग
(B) स्त्रीलिंग
(C) नपुंसकलिंग
(D) उभयलिंग

उत्तर :- A

Q. इनमें से कौन सा पुल्लिंग शब्द स्त्रीलिंग शब्द में प्रत्यय लगाने से बना है?

(A) मर्दाना
(B) बुढ़ापा
(C) भेड़ा
(D) विधुर

उत्तर :- C

Q. हिन्दी में कितने वचन होते हैं?

(A) दो
(B) तीन
(C) चार
(D) पांच

उत्तर :- A

Q. “मैं चलती थी।” में ‘मैं’ का बहुवचन क्या होगा?

(A) हम
(B) तुम
(C) वे
(D) सब

उत्तर :- A

Q. ईकारांत संज्ञा शब्द को बहुवचन बनाते समय क्या किया जाता है?

(A) अंतिम स्वर के बाद ‘याँ लगा देते हैं।
(B) अंतिम स्वर को हटा कर ‘याँ लगा देते हैं।
(C) ‘ई’ को हस्व करके अंतिम स्वर के बाद ‘याँ लगा देते हैं।
(D) ‘ई’ को हस्व करके अंतिम स्वर के बाद ‘ओं लगा देते हैं।

उत्तर :- A

Share Now :-

Leave a Comment